A short story on a sharp-witted crow

सोच आपकी-जीत आपकी और उपलब्धियां आपकी

मेरे Boss  श्री सुमित कुमार पाटीदार जी, उन्हें Boss  न कहकर गुरु  कहा जाए तो ज्यादा सही होगा क्योंकि वो मुझसे उम्र में भी बड़े हैं और नौकरी में भी सीनियर हैं।  उनसे मुलाकात होती रहती है और उन मुलाकातों में ही उनसे ढेर सारी बातें भी हो जाती हैं। आज उनसे हुई कुछ बातों का सारांश इस पोस्ट में लिख रही हूँ।

Is Achiever A Winner?


Friends, life में success, achievements, जीत और उम्मीदें किसे अच्छी नहीं लगतीं? जाहिर सी बात है ये सब चीजें सबको बहुत पसंद हैं और हम में से सब अपने जीवन में ये सब हासिल करना चाहते हैं।  यहाँ पर जो बात की जा रही है वो ये है कि क्या life में achieve करने वाला ही success और winner माना जाता है और कुछ लोग पात्रता (deserveness) होते हुए भी कई चीजों को हासिल नहीं करते या हासिल नहीं कर पाते क्या हम उन्हें असफल (Failure) या हारे हुए मानेंगे?

श्री सुमित कुमार पाटीदार जी के ही शब्दों में “इसमें कई खास बातें हैं.”

#1 ये जरुरी नहीं कि कुछ हासिल न करने वाला failure होता है।

#2 Friends, life में हर इंसान के कुछ motivations, कुछ आदर्श, कुछ सपने और कुछ सोच होती है और उन्हीं के हिसाब से उसका व्यक्तित्व (personality) और जीवन स्तर बनता है।

#3 कुछ बातें होती हैं जो इंसान की personality को दूसरों से अलग करतीं हैं और ये बातें या गुण ही उसकी समाज में दूसरों से अलग पहिचान बनाते हैं।

#4 कुछ cases में इंसान एक जगह असफल होते हुए दूसरी जगह सफल रहता है और अपनी सफलताएँ या उपलब्धियां उस इंसान को एक आत्मिक संतोष और आत्मबल देती हैं।

कुछ पाने के लिए कुछ खोना

“You can achieve anything what you want in life.” कुछ पाने के लिए कुछ खोना पड़ता है. शायद इसीलिए कुछ लोग बहुत सारी चीजों या बातों को नज़रंदाज़ करते रहते हैं. अगर इंसान के प्रयासों में सच्ची लगन हो तो बहुत कुछ हासिल करना नामुमकिन नहीं है लेकिन वो सब हासिल करने के बाद जो चीज खो जाएगी वो कितनी महत्वपूर्ण है. इसी का जोड़-घटाना और गुणा- भाग ये decide करता है कि कुछ नई चीज को हासिल करने के लिए सोचा जाये कि नहीं।

आदरणीय सुमित जी की ये बात बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि कुछ लोग निराशा, कुंठा और हताशा में कई गलत कदम उठा लेते हैं और बाद में पछताते हैं।  ईश्वर ने मनुष्य को अनगिनत शक्तियां, योग्यताएं दी हैं। इन योग्यताओं के बल पर इंसान असंभव को भी संभव कर सकता है परन्तु इन सब के साथ ही विवेक भी दिया है जो अच्छे-बुरे, सही-ग़लत, लाभ-हानि का ज्ञान कराता है।

लक्ष्य और मंजिल


मनुष्य को अपने लक्ष्य, पहिचान, उद्देश्य और सार को हमेशा याद रखना चाहिए।  आप को वही हासिल करना चाहिए जो आपके लिए जरुरी हो वरना दुनिया में तो बहुत कुछ है। सारी चीजें और मंजिलें आपके लिए नहीं हैं।  सब कुछ हासिल करने में तो आप अपनी मंजिल से भटक जायेंगे।

सार ये है कि हमें अपनी powers पर भरोसा करना चाहिए और achievements, deserveness के सही अर्थ और सही परिप्रेक्ष्य को समझना जरुरी है।

आदरणीय सुमित सर  के अमूल्य शब्दों के लिए उनका बहुत-बहुत धन्यवाद। 

Tags:- Hindi Article, Incredible, My Story, Story Online, Ego And Attitude, Facts About Life 

Contact Us

Name

Email *

Message *