No! Hindi is not India’s national Language

Social Media बन रहा एक तरह का पागलपन

Social Media बन रहा एक तरह का पागलपन


जब नई तकनीकें आती हैं, तो वे अपने साथ वरदान भी लेकर आती हैं और अभिशाप भी।  आपको उसके फायदे नजर आते हैं और नुकसान भी। यहां तक कि लोकतंत्र के भी अपने फायदे और नुकसान हैं और तानाशाही के भी अपने फायदे-नुकसान हैं। ये होता है कि तानाशाही में नुकसान बहुत ज्यादा होते हैं और लोकतंत्र में फायदे बहुत ज्यादा होते हैं। लेकिन ऐसा कहना कि तानाशाही में फायदे नहीं होंगे, एक तरह का अनुशासन तो आ ही जाता है, लोकतंत्र में नुकसान है कि एक तरह की अराजकता आ ही जाती है।

आप उसका इस्तेमाल देश में आग लगाने के लिए भी कर सकते हैं, दंगे भड़काने के लिए भी कर सकते हैं, चरित्र हनन के लिए भी कर सकते हैं। ये इसका अभिशाप है। इसे शत-प्रतिशत तो काबू नहीं कर सकते हैं, लेकिन बिल्कुल काबू नहीं कर सकते, ऐसा भी नहीं है। इसकी कोशिश भी हमारे यहां बहुत अधिक नहीं हुई है। 


जो बात असल ज़िंदगी में लागू होती है, वही फे़सबुक और ट्विटर पर भी। इसलिए ‘‘ज़रूरत से ज़्यादा चीज़ें साझा करें, इस पर अपना सारा समय लगाएं। और यदि आप ऐसा करें भी तो इसका प्रचार  करें। ट्विटर पर आपने कुछ गलती की तो वह हमेशा वहां रहेगी जिससे आपको काफी नुकसान पहुच सकता है

Smart और सुरक्षित तरीके से आप सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर सकते हैं, आपने सुबह के नाश्ते में क्या खाया, जैसी पागलो वाली चीजें पोस्ट करने या फिर गेम खेलने से में समय बर्बाद न करे यह संबंध और संपर्क बनाने का मामला है जिससे कि जब कोई आपका प्रोफाइल देखे तो यह आपको अच्छा दर्शाये वे सोचें कि आप एक समझदार महिला या पुरुष हैं। 
अमेरिकन सेंटर में नई दिल्ली के स्कूली बच्चों के सवालों के जवाब दिए,  उन्होंने इन लोगों को इस बारे में ताज़ा जानकारी दी कि उन्हें Social Media का इस्तेमाल किस तरीके से अपने लाभ के लिए करना चाहिए। उनका ‘‘असली मिशन लोगों के लिए सोशल मीडिया की मौज-मस्ती को बर्बाद कर देना है।’’ वह चाहते हैं कि लोग सोशल मीडिया का इस्तेमाल ज़्यादा रणनीतिक तौर पर करें, सिर्फ गेम खेलने के लिए नहीं।



Tags;- Article in Hindi, Social Media, Incredible World, Facts About Life, Story Online  

Contact Us

Name

Email *

Message *